चुकंदर के फायदे तथा 32 बेहतरीन औषधीय गुण

चुकंदर (English Name – Beetroot) (Botanical name- Beta vulgaris varrapa) लाल रंग का दिखने वाला यह फल चुकंदर हमारी सेहत के लिए कई मायनों में फायदेमंद है। अनेक खूबियों से भरे रक्तवर्धक चुकंदर को आमतौर पर बहुत से लोग पसंद नहीं करते, लेकिन इसके रस को पीने से खून में हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ती है, चुकंदर में अच्छी मात्रा में विटामिन और खनिज होते हैं जो रक्त शोधन के काम में सहायक होते हैं। इसमें पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट तत्व शरीर को रोगों से लड़ने की क्षमता प्रदान करते हैं। यह प्राकृतिक शर्करा का स्रोत होता है। इसमें आयरन, सोडियम, पोटेशियम, फॉस्फोरस और अन्य महत्वपूर्ण विटामिन पाए जाते हैं। चुकन्दर की तासीर ठंडी होती हैं |

चुकंदर खाने से जोड़ों का दर्द दूर होता है | लीवर को शक्ति देता है। दिमाग के लिए भी अच्छा है। यह मीठा, पुष्टिकर और मानसिक तरावट बढ़ाने वाला फल  होता है | चुकंदर की सब्जी बनाकर या इसे कच्चा भी खा सकते हैं तथा रस भी पी सकते हैं चुकंदर कई तरीके से खाया जाता है आमतौर पर इसे कच्चे सलाद के रूप में खाया जाता है इसलिए मूली, गाजर, प्याज, टमाटर आदि की तरह ही चुकंदर को भी सलाद में शामिल करें। दक्षिण भारत में उबाल कर खाने का भी प्रचलन है हालांकि उबालने से इस के कुछ तत्त्व खत्म हो जाते हैं. इसलिए इसे कच्चा खाना ही सब से लाभप्रद है | सभी पोषक तत्वों वाले गाढ़े लाल रंग के रस को पाने के लिए तरोताजा चुकन्दर ही प्रयोग करें, ताकि उसका छिलका सही-सलामत रह सके। कभी भी चुकन्दर का छिलका हटाएं और न ही उसकी जड़ को काटें, बल्कि प्राक्रतिक दशा में ही उसे पकाएं, ताकि पर्याप्त पोषक तत्व प्राप्त हो सकें।

खोजों से यह बात उभर कर आई है कि चुकन्दर के अधिक पकाने से इसमें पाया जाने वाला लाल रंग का रस टयूमर पर हमला करने की काबिलियत खो बैठता है। इसलिए इन्हें धीमी आंच पर ही पकाएं, ताकि इसके पोषक तत्व कायम रह सकें।

चुकन्दर के लाभ और फायदे :

  • चुकंदर फोलेट का अच्छा स्रोत होते हैं जिससे उच्च रक्तचाप (High BP) में चुकंदर और गाजर का रस 1-1 कप, पपीता और नारंगी का रस आधा-आधा कप मिलाकर प्रतिदिन दो बार पीने से फायदा होता है।
  • ब्लडप्रेशर के रोगियों को चुकंदर जरूर खिलाएं, चुकंदर और इस के पत्ते फोलेट का एक अच्छा जरीया है, जो उच्च रक्तचाप और अल्जाइमर की समस्या को दूर करने में मदद करते हैं | रोज चुकंदर में गाजर और सेब मिला कर उस का जूस पीने से हाईब्लड प्रेशर में कमी आती है | एक अध्ययन के मुताबिक रोजाना 2 कप चुकंदर का जूस पीने से ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है.
  • चुकन्दर के रस को पीने से थकान दूर होती है। तथा शरीर में ऊर्जा बढ़ाता है।
  • एनीमिया (खून की कमी ) में सुबह-शाम रोज 1 कप चुकन्दर का रस सेवन करना काफी फायदेमंद साबित होता है।
  • चुकन्दर का रस या चुकंदर को पानी में उबालकर उसका सूप पीने से पथरी निकल जाती है। इसको 30 ग्राम की मात्रा में दिन में 4 बार कुछ सप्ताह तक लें। इससे लीवर की सूजन भी दूर होती है।
  • चुकन्दर में मिनरल सिलिका होता है जो कैल्शियम की पूर्ति करता है। कैल्शियम शरीर के लिए जरूरी तत्व है। कैल्शियम से हड्डी और दांत मजबूत होते हैं। शरीर में कैल्शियम की कमी दूर करने के लिए चुकंदर का जूस पिएं। बच्चों और युवाओं को चुकंदर चबाचबा कर खाना चाहिए. इस से दांत और मसूढे मजबूत होते है |
  • चुकन्दर कफ बलगम निकालकर साँस की नली को साफ रखता है।
  • चुकंदर के पत्तों के रस में शहद मिलाकर लगाने से दाद, खुजली ठीक हो जाती है।
  • चुकन्दर खाने से जोड़ों का दर्द दूर होता है।
  • हाइपोग्लाइसीमिया (रक्त में शुगर की कमी) यह चुकन्दर खाने से दूर हो जाती है। चुकंदर प्राकृतिक शुगर का सब से अच्छा स्रोत है. इस में सोडियम, पोटेशियम, फास्फोरस, कैल्शियम, सल्फर, क्लोरीन, आयोडीन, आयरन, विटामिन ‘बी1′, ‘बी2′ और ‘सी’ पाया जाता है  इस में कैलोरी काफी कम होती है |
  • दो चम्मच चुकन्दर के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर प्रतिदिन पीने से पेट की गैस से छुटकारा मिलता है।
  • चुकन्दर में ज्यादा फाइबर होने से पेट से जुड़ी समस्याएं खत्म होती है। इसे रोज खाने से पेट सही रहता है और टॉक्सिन बाहर निकलते हैं। यह एक बेहतरीन detoxification फल भी है जो रक्त को साफ़ करने (blood purifier) के काम आता है |
  • पेट के रोगों को ठीक करने में चुकन्दर के गुण बहुत उपयोगी साबित होते हैं | दो चम्मच चुकन्दर के रस में एक चम्मच नीबू का रस मिलाकर प्रतिदिन पियें। इससे उल्टी, दस्त, हैजा, पेचिश, लीवर-इन्फेक्शन आदि रोगों में फायदा होता है।
  • चुकंदर Benefits in Pregnancy- महिलाओ के लिए तो चुकंदर किसी वरदान से कम नहीं है, चुकन्दर में फोलिक एसिड होता है जो गर्भवती महिलाओं और गर्भस्थ शिशु के लिए फायदेमंद होता है। चुकंदर से प्रसव के समय महिला को ऊर्जा भी मिलती है।
  • मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द और अनिमियत हो तो रोजाना चुकन्दर का सेवन फायदेमंद है। चुकन्दर रक्त बढ़ाता है | इसका रस जच्चा में दूध बढ़ाता है जिससे वो शिशु को पर्याप्त मात्रा में दूध पिला सके |
  • मासिक धर्म, श्वेत प्रदर, जननांगों के रोगों में गाजर का रस और चुकन्दर का रस मिलाकर प्रतिदिन दो बार पिलायें। इससे स्त्रियों के ये रोग ठीक हो जाते हैं।

 

  • मुनक्का खाने के फायदे तथा 26 बेहतरीन औषधीय गुण
  • चुकन्दर में ‘बिटिन’ नामक तत्व पाया जाता है जो शरीर में गाँठ तथा कैंसर होने से बचाता है। गाँठ होने पर शुरू के दो दिन सिर्फ मौसम के फल व सब्जियों के रस का सेवन करें अन्य किसी चीज का सेवन ना करें । तीसरे दिन सुबह एक गिलास पानी में एक नीबू का रस व चार चम्मच शहद मिलाकर पियें। दिन में अंगूर का रस एक-एक कप चार बार और मौसमी का रस दो बार पियें । रोगी को चौथे दिन से लगातार कुछ दिन तक आधा गिलास गाजर का रस आधा गिलास चुकन्दर का रस मिलाकर चार बार दिया जाए इसके बाद सामान्य हल्का अंकुरित अन्न दें। कुछ ही दिनों में गाँठ ठीक हो जायेगी।
  • पित्ती (Urticaria), पुराना घाव, या मधुमक्खी के काटे डंक पर चुकन्दर का रस लगाने से फायदा  होता है।
  • चुकन्दर के पत्तों को रगड़कर मोच वाली जगह पर रख कर पट्टी बांधने से चोट- मोच से राहत मिलती है।
  • डायबिटीज में चुकन्दर मीठा खाने की इच्छा पूरी करने के साथ ही भूख भी मिटाता है। यह फैट-फ्री भी होता है।
  • चुकंदर जूस के फायदे – खिलाडियों और दौड़ने वाले धावको को अक्सर चुकन्दर का जूस पीने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह मांसपेशियों को ऑक्सीजन का इस्तेमाल प्रभावी ढंग से करने की काबिलियत को बढाता है तथा शरीर की सहनशक्ति (stamina) को भी बढ़ा देता है।
  • पीलिया में लाभकारी : चुकंदर पीलिया के रोगियों के लिए भी फायदेमंद है. पीलिया के रोगियों को चुकंदर का रस दिन में 4 बार देना चाहिए. ध्यान रखें कि एक बार 1 कप से ज्यादा जूस न दें |
  • पित्ताशय के लिए गुणकारी : शोध में पाया गया है कि यह किडनी के साथ ही पित्ताशय के लिए भी कारगर है. इस में मौजूद पोटेशियम शरीर को रोजाना पोषण देने में मदद करता है, वहीं क्लोरीन लीवर और किडनी को साफ करने में मदद करता है |

सौंदर्य बढ़ाने में चुकंदर के गुण : 

  • चुकंदर सनबर्न यानि तेज धूप से झुलसी त्वचा में फायदा पहुँचाता है। चुकंदर में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व होते हैं। इसके रस को आप किसी रूई की सहायता से त्वचा पर लगायें |
  • रात को हमारी त्वचा की कोशिकाएँ पुन: बनती हैं। सोने से पहले शरीर पर तेल की मालिश करके सोयें।
  • रूसी हो जाने पर चुकन्दर के रस में सिरका मिला कर सिर पर लगाने से कुछ दिनों में रूसी ठीक हो जाती है।
  • नेचुरल पिंक लुक (गुलाबी त्वचा ) पाने के लिए चुकंदर काटकर हल्के हाथों से अपना चेहरा मलें। इससे चेहरे में गुलाबी निखार आ जाता है।
  • प्रतिदिन एक गिलास चुकन्दर का रस पीने या 150 ग्राम चुकन्दर खाने से नाखून का फटना, उखड़ना, बदरंग होना, मोटे होना ठीक हो जाता है।
  • कील, मुंहासे, झाँइयाँ, दाग-धब्बे चेहरे पर हो तो चुकन्दर, टमाटर का रस आधा-आधा कप तथा एक गिलास गाजर का रस मिलाकर पीने से इन सब त्वचा की बीमारियों से छुटकारा मिलता है। बेल के जूस को पीने के फायदे तथा बेलपत्र रस के औषधीय गुण
  • चुकन्दर, टमाटर का रस 1-1 कप में दो चम्मच कच्ची हल्दी का रस या एक चम्मच पिसी हल्दी मिलाकर सुबह-शाम 15 दिन तक पीने से त्वचा का रंग गोरा होकर निखर जाता है।
  • चुकंदर के पत्ते के लाभ : गहरे भूरे रंग के चुकंदर के पत्तो की अक्सर अनदेखी की जाती है जो iron, calcium, Vitamin A, K और Vitamin C के समृद्ध स्रोत होते हैं। Vitamin K खून के थक्के ना बनने देने में प्रमुख भूमिका निभाता हैं। जिससे ह्रदय रोगों को दूर रखने में मदद मिलती है |
  • चुकंदर के पत्तों को पानी में उबालकर सिर धोने से Dandruff और जुएँ दूर होती है |
  • चुकंदर के पत्ते मेहन्दी के साथ पीसकर सिर पर लेप करने से बाल गिरना बन्द हो जाते हैं और तेजी से बाल उगते हैं तथा बढ़ते भी हैं।
  • चुकंदर के पत्तों को पीसकर उसमें थोड़ी-सी हल्दी मिलाकर सिर में लेप करने से भी बालों का विकास तेजी से होता हैं।
  • एक कप चुकंदर के रस में 58 calories, 13 grams carbohydrate, 9g शुगर, 4 g fiber और 2 g of protein होता है |
  • सावधानी –चुकंदर के नुकसान और हानि से बचने के लिए : चुकंदर का जूस हमेशा किसी अन्य सब्जी या फल जैसे गाजर, सेब, अनार आदि के जूस में मिला कर पीना चाहिए। खाली चुकंदर का जूस पीने से वोकल कोर्ड में क्षणिक तकलीफ हो सकती है।
  • चुकंदर का जूस कब पीना चाहिए – चुकंदर का जूस या अन्य कोई भी जूस रात को नहीं पीना चाहिए जूस पीने का सही समय दोपहर के भोजन से पहले या सुबह नाश्ते के समय अन्यथा दिन में कभी भी पी सकते हैं | इससे वात यानि कफ की उत्पप्ति नहीं होगी |

 

Spread the love

इंदौर