Mar 24 2019 /
2:29 PM

इंदौर में रिश्वतखोर थानेदार को 4 साल का सश्रम कारावास

इंदौर। इंदौर में एक थानेदार (उप निरीक्षक) को कोर्ट ने रिश्वत मामले में दोषी पाते हुए 4 वर्ष के सश्रम कारावास व 2 हजार अर्थदंड की सजा सुनाई।

विशेष जज एके शर्मा की कोर्ट ने आरोपी थानेदार अशोक कुमार गुणावत को भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं में दोषी पाकर उक्त सज़ा सुनाई।

जिला लोक अभियोजन अधिकारी मोहम्मद अकरम शेख ने बताया कि घटना के समय आरोपी पंढरीनाथ थाने पर पदस्थ था। 30 मार्च 2015 को एक महिला का पर्स सिटी वैन से चोरी हो गया था।

पुलिस ने इस मामले में वैन चालक नौशाद को पूछताछ के लिए थाने पर बुलाया था और 2 दिन नही छोड़ा। जब उसके भाई इस्तखार अली ने आरोपी थानेदार से संपर्क किया तो उसने नौशाद को छोड़ने के नाम पर 10000 रूप मांगे अन्यथा केस में फंसाने की धमकी दी। बाद में सौदा 8000 में पटा।

इसकी शिकायत लोकायुक्त पुलिस में की गई। इस पर आरोपी थानेदार गुणावद को 4 अप्रैल 2015 को 8 हजार रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया।

एसपी लोकायुक्त एसपी दिलीप सोनी ने बताया कि लोकायुक्त पुलिस ने विवेचना कर चालान कोर्ट में पेश किया। शासन की ओर से एडीपीओ ज्योति गुप्ता द्वारा पैरवी की गई।

Spread the love

इंदौर