Jul 20 2019 /
1:12 PM

इंदौर में आबकारी आरक्षक की 2 करोड़ से अधिक की अनुपातहीन संपत्ति राजसात होगी, कोर्ट ने दिए आदेश

इंदौर। इंदौर में एक आबकारी आरक्षक की 2 करोड़ 53 हजार 208 रुपये मूल्य की अनुपातहीन संपत्ति राजसात होगी। मंगलवार को विशेष न्यायाधीश आलोक मिश्रा की कोर्ट ने उक्त आदेश जारी किए।

आरक्षक रामचंद्र जायसवाल व परिजनों की उक्त दो करोड़ रुपए से अधिक की अनुपातहीन संपत्ति राजसात करने के आदेश दिए गए है। मामला इस प्रकार है कि लोकायुक्त पुलिस के छापे में उक्त आरक्षक की लगभग चार करोड़ 48 लाख रुपए की संपत्ति मिली थी जबकि उसकी कुल आय दो करोड़ 38 लाख रुपए होना पाई गई थी।

जिला लोक अभियोजन अधिकारी मो. अकरम शेख ने बताया कि आरोपी आरक्षक रामचंद्र पिता गिरधारीलाल जायसवाल के 780 ए- नरेंद्र तिवारी मार्ग, सुदामानगर इंदौर स्थित निवास पर लोकायुक्त पुलिस इंदौर ने 13 फरवरी 2015 को छापा मारा था। तब वह खरगोन जिले में पदस्थ था।

प्रकरण में शासन की ओर से विशेष लोक अभियोजक महेंद्रकुमार चतुर्वेदी ने पैरवी की।इस छापे में सुदामा नगर के मकान के अलावा मालीपुरा गाड़ी अड्‌डा के पीछे करीब बारह सौ वर्गफीट का कार्यालय व मकान, राऊ में हेरिटेज गार्डन सोसायटी के अंतर्गत पांच हजार वर्गफीट का फार्म हाउस आरोपी की भागीदारी में मिला था।

ऐसे ही भक्त प्रह्लाद नगर के पास भव्य मालवा काउंट होटल के साथ ही वाहनों में एक आयशर, एक टाटा मिनी ट्रक, स्कॉर्पियो व दो दु-पहिया वाहन मिले थे।

इसके अतिरिक्त इंदौर जिले में शराब ठेके की नौ दुकानें आरोपी के परिवार परिजन और बेनामी रूप से हिस्सेदारी पाई गई। आरोपी जायसवाल की स्वयं, पत्नी देवकन्या व पुत्र अंकित जायसवाल, पुत्री बबीता, सुनीता जायसवाल के नाम से संपत्ति होना पाई गई थी।

Spread the love

इंदौर