Mar 20 2019 /
10:46 AM

इंदौर के भागीरथपुरा नाले में टैंकर से केमिकल छोड़ने के मामले में गोडाउन मालिक को अग्रिम जमानत नही

इंदौर। इंदौर हाई कोर्ट ने इंदौर के भागीरथपुरा नाले में टैंकर से केमिकल डलवाने वाले आरोपी गोडाउन मालिक की अग्रिम जमानत याचिका निरस्त कर दी है।

आरोपी का नाम मनोहर पिता सत्यनारायण पोरवाल है। थाना बाणगंगा में 30 अक्टूबर 2018 को भागीरथपुरा कान्ह नदी में टैंकर चालक द्वारा केमिकल को नाले में डाल दिया गया था, जिससे पानी में झाग निकलने लगा और ज्वलनशील गेस क्षेत्र में फैल गई थी। पोलो ग्राउंड से भागीरथपुरा और परदेशीपुरा तक लोगों को आंख में जलन और पानी निकल रहा था। शिकायत प्राप्त होने पर पुलिस द्वारा धारा 268,270,277,278, 284, 308 भारतीय दंड संहिता एवं मध्यप्रदेश जल प्रदूषण अधिनियम 1974 की धारा 2 व 5 के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना की गई थी ।

विवेचना में टैंकर चालक से पूछताछ पर यह पता चला कि उक्त कार्य करने के लिए आरोपी मनोहर पोरवाल ने वाहन चालक को 5000 रुपये केमिकल को छोड़ने के लिए और टैंकर साफ करने के लिए दिए थे। अक्टूबर से आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर होने पर आरोपी द्वारा अग्रिम जमानत याचिका न्यायालय में लगाई गई।

आरोपी गोडाउन मालिक द्वारा लगाई गई अग्रिम जमानत याचिका में यह तर्क दिया गया कि आरोपी का इस अपराध में कोई प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष संबंध नहीं है अतः उसे जमानत पर रिहा किया जाए। शासन की ओर से पैरवी करते हुए अधिवक्ता पंकज वाधवानी ने बताया कि मामला आपराधिक कृत्य तो है ही सही साथ ही पर्यावरण व जनता की जान के साथ खिलवाड़ करने का भी है, ऐसी स्थिति में अग्रिम जमानत का लाभ दिया जाना उचित नहीं होगा। तर्कों को सुनने के उपरांत न्यायालय ने आरोपी की अग्रिम जमानत याचिका निरस्त कर दी।

Spread the love

इंदौर