मन्दसौर गैंगरेप में 350 पेज का चालान पेश

इंदौर। 7 साल की मासूम के साथ मन्दसौर के चर्चित गैंग रेप मामले में पुलिस ने मंगलवार को मन्दसौर की द्वितीय अपर जिला एंव सत्र न्यायाधीश निशाा गुप्ता की कोर्ट में लगभग 350 पेज का चालान पेश किया। गैंगरेप, अपहरण के साथ पास्को एक्ट की धाराएं भी लगाई गई है जिसमे फांसी का प्रावधान है।

वीडियो कांफ्रेंसिंग से दोनों आरोपियों की हाज़री हुई

विवेचना में उल्लेखनीय तेज़ी दिखाते हुए वारदात के मात्र 15 दिन बाद ही चालान के साथ 92 गवाहों की सूची भी प्रस्तुत कर दी। चालान पेश किये जाने के दौरान आरोपियों इरफान और आसिफ को जेल से ही काॅफेंसिंग के जरिए कोर्ट में हाजिर किया गया।

करीब15 अफसरों की टीम ने चालान तैयार किया। केस से जुड़ी कोई भी कड़ी छूट नहीं जाए, इसलिए एसपी मनोज कुमार सिंह, एसआईटी प्रमुख सीएमपी राकेश मोहन शुक्ला ने टीम ने साथ हर पहलू की बारीकी से जांचकर रिपोर्ट तैयार की है।

गौरतलब है कि सामूहिक ज्यादती की शिकार 7 वर्षीय बच्ची का इंदौर के एमवाय अस्पताल में इलाज चल रहा है। खुद CM शिवराज उसे देखने एमवाय आये थे।

यह है मामला

मंदसौर में 27 जून को 8 साल की बच्ची गैंगरेप की शिकार हुई थी। स्कूल की छु्टटी होने के बाद बच्ची अपने पिता का इंतज़ार कर रही थी। उसी दौरान इरफान और आसिफ नाम के आरोपियों ने मिठाई का लालच देकर उसे अगवा कर लिया था। बाद में दोनों आरोपी पकड़ लिए गए। प्रदेश में कई जगह प्रदर्शन कर आरोपियों को फांसी देने की गुहार की गई।

Spread the love

19

इंदौर