21 फरवरी से शुक्र ने मकर से निकलकर कुम्भ राशि मे किया परिवर्तन, जानिए आपकी राशि पर इसका क्या होगा प्रभाव, क्या करे उपाय

शुक्र ग्रह ने एक दिन पहले 21 फरवरी 2021 को मकर राशि से निकलकर कुंभ राशि में प्रवेश कर लिया है। शुक्र का यह राशि परिवर्तन रविवार को करीब 02: 19 बजे हुआ l ज्योतिष के अनुसार शुक्र के इस राशि परिवर्तन का असर सभी राशियों के जातक पर पड़ेगा। शुक्र के इस राशि परिवर्तन से कुछ के लिए परेशानियां और चुनौतियां आ सकती हैं कुछ राशियों के लिए जातकों को खुशियों और कामयाबी मिल सकती हैं। जानिए आपकी राशि पर इस परिवर्तन का क्या होगा असर व इसके लिए क्या उपाय करें-

मेष – शुक्र द्वितीय और सप्तम के स्वामी होकर ग्यारहवें भाव में आ रहे हैं। लाभ में वृद्धि, परिवार में खुशियों का माहौल रहेगा। सुखों में वृद्धि होगी। पेट और गुप्तांग के रोगों में वृद्धि हो सकती है। अध्ययन में मन लगेगा। प्रेम में विवाद हो सकता है। संतान प्राप्ति के लिए अच्छा समय है। लाभ में वृद्धि व प्रमोशन के योग है।

उपाय – सफेद मीठी चीज शुक्रवार को लक्ष्मी जी को चढ़ाएं शुक्र के मंत्रों का जाप करें l

वृष – शुक्र लग्नेश और छठे भाव के स्वामी होकर दशम भाव में प्रवेश कर रहे हैं। नौकरी में नए पद की प्राप्ति होगी। ननिहाल से अच्छी खबर आ सकती है। शुक्र संबंधी व्यवसाय अब खोल सकते हैं।

उपाय -शुक्र से संबंधित वस्तुएं जैसे चावल चीनी रंग बिरंगे कपड़े दान कर सकते हैं। लक्ष्मी मां की उपासना करें l

मिथुन – आपकी निद्रा में कमी आ सकती है। वाहन चलाते समय सावधानी रखें। धर्म कार्य से जुड़ी लंबी यात्राओं का योग है। विद्यार्थियों का मन पढ़ाई में लगेगा। बाहरी सोत्र से बिजनेस में लाभ का योग रहेगा। प्रेम संबंधों में प्रगाढ़ता आ सकती है। पेट में कुछ परेशानी आ सकती है।

उपाय -सफेद चीजों का दान करें शुक्र के मंत्रों का जाप करें l

कर्क – लाभ प्राप्ति के योग बन रहे हैं। अकस्मात संपत्ति का योग है। गुप्त ज्ञान की प्राप्ति के अवसर मिलेंगे। वाणी का प्रयोग सोच समझकर करें नहीं तो कानूनी अड़चन आ सकती हैं। पेट के निचले भाग मैं परेशानी व ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है l

उपाय- भोलेनाथ को जल चढ़ाएं और उनकी पूजा अर्चना करें l

सिंह – बिजनेस के लिए अच्छा समय रहेगा। पराक्रम में वृद्धि होगी। वैवाहिक जीवन सुखमय रहेगा। पार्टनरशिप के योग है। पुराने मित्र से मिलने के भी योग बन रहे हैं। नौकरी में उन्नति के अवसर मिलेंगे। दैनिक आय में वृद्धि होंगी

उपाय -दूध साबूदाने से बनी वस्तुओं का दान करें l

कन्या –मिला जुला समय रहेगा। परिवारिक जीवन में तनाव रह सकता है। धार्मिक यात्राओं की योग है। कुछ बाधाओं के साथ धन की प्राप्ति होगी।

उपाय -शुक्र के मंत्रों का जाप करिए और सफेद चीजों का मंदिर में दान करें l

तुला – शुक्र का गोचर पांचवे भाव में है। आप ऊर्जा से भरे रहेंगे। कार्यक्षेत्र में आकस्मिक लाभ के योग है वही बिजनेस में तरक्की मिल सकती है। प्रेम संबंधों में समय उत्तम है। विद्यार्थियों को शिक्षा/पढ़ाई में दिक्कतें आ सकती हैं।

उपाय -लक्ष्मी जी के मंत्रों का जाप करें या शुक्र के मंत्रों का जाप करें l

वृश्चिक – यह समय थोड़ा ध्यान रखने वाला होगा। घर परिवार के मामले कोर्ट कचहरी के जाने के योग बन रहे हैं। घर मकान वाहन खरीदने का योग भी बन रहा है। खर्चे बढ़ सकते हेl

उपाय – मीठी वस्तुओं को शुक्रवार को लक्ष्मी मां के आगे चढ़ाएं और शुक्र के मंत्रों का जाप करें l

धनु – शुक्र का गोचर आपके तृतीय भाव में होगा। आपके पराक्रम में वृद्धि होगी। मित्रों के साथ घूमने जा सकते हैं। लाभ में वृद्धि होगी। धार्मिक कार्यों को करने में आपका मन लगेगा परंतु ध्यान रखिए परिवार में क्लेश का वातावरण न उत्पन्न हो l

उपाय – शुक्र के मंत्रों का जाप करिए और सफेद चीजों का मंदिर में दान करें l

मकर – शुक्र का गोचर आपके द्वितीय भाव में रहेगा। परिवार में आपस में प्रेम और स्नेह में वृद्धि होगी। वैवाहिक जीवन सुखमय रहेगा। प्रेम संबंधों में वृद्धि होगी। धन लाभ, समाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। उधार धन वापस आएगा। कार्यक्षेत्र में फायदा होगा l

उपाय- माता लक्ष्मी की उपासना करें सफेद मीठी वस्तुओं को मंदिर में चढ़ाएं l

कुंभ -शुक्र का गोचर आपके लग्न में होगा। प्रेम संबंध में वृद्धि होगी। साथ ही भूमि मकान वाहन सुख में भी वृद्धि के योग है। धार्मिक कार्यों में रुचि बढ़ेगी। यात्राओं का योग बनेगा। मन उत्साहित रहेगा l

उपाय -लक्ष्मी जी के मंत्रों का जाप करें या शुक्र के मंत्रों का जाप करें l

मीन -शुक्र का गोचर आपके बारहवें भाव में होगा। आपके पराक्रम में वृद्धि होगी। विदेशों से लाभ के अवसर मिलेंगे। खर्चे बढ़ने का योग है। मधुमेह और पेट के निचले भागों में कुछ इंफेक्शन की परेशानी आ सकती है। वाहन चलाते वक्त सावधानी रखें l

उपाय -शुक्र के मंत्रों का जाप करें चावल चीनी का य सफेद वस्तुओं का दान मंदिर में शुक्रवार को करें l

साभार- पं राजेश शुक्ला

Spread the love

इंदौर