सितंबर में 7 ग्रह बदल रहे हैं अपनी अपनी चाल, लेकिन राहु-केतु के कारण होगी बड़ी उथल पुथल, कोरोना पर जरूर लग सकती हैं लगाम

ज्योतिष के हिसाब मौजूदा
सितंबर माह बेहद महत्वपूर्ण होने जा रहा है। क्योंकि 7 ग्रह सूर्य,मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, राहु, केतु अपनी चाल और घर बदल रहे हैं। उस बदलाव से यूं तो सभी राशियों को अलग अलग फर्क पड़ेगा लेकिन राहु-केतु के कारण बड़ी उथल पुथल होने की संभावना है। राहत की बात यह रहेगी कि राहु की चाल बदलने के कारण कोरोना महामारी पर जरूर लगाम लग सकती हैं।


इस सितंबर माह में देवगुुरु बृहस्पति और शनि लंबे समय तक वक्री रहने के बाद मार्गी हो रहे हैं।
माह की शुरुआत में ही 1 सितंबर को शुक्र का कर्क राशि में गोचर हो चुका है जो 28 सितंबर तक कर्क राशि में स्थित रहेगा।


इसी तरह बुध ग्रह 2 सितंबर को अपनी स्वराशि कन्या में गोचर कर चुका है जो 22 सितंबर को तुला राशि में प्रवेश करेगा।
इसके अलावा गत 10 सितंबर से मंगल ग्रह मेष राशि में वक्री ही गया है जो 66 दिन बाद यानी 14 नवंबर को मार्गी होगा।

अब ये बदलाव
इसके बाद अब आगामी 13 सितंबर को बृहस्पति अपनी राशि धनु में मार्गी होंगे जो लंबे समय से वक्री चल रहे हैं। इसे शुभ माना जा रहा है। इसके बाद 16 सितंबर को सूर्य ग्रह स्वराशि सिंह से निकल कर कन्या राशि में प्रवेश करेगा और 17 अक्टूबर को यह अपनी नीच राशि तुला में जाएगा।

राहु केतु के बदलाव
इसके बाद जो बड़े बदलाव होंगे इनमे 23 सितंबर को राहु मिथुन राशि से वृष राशि में गोचर करेगा जो इस राशि में 12 अप्रैल 2022 तक रहेगा. माना जा रहा है कि राहु के इस राशि परिवर्तन से सिर्फ वृश्चिक व सिंह राशि वालो को ही फायदा होगा, शेष राशियो के लिए कुछ न कुछ दिक्कतें होती रहेगी। कुछ ज्योतिषियों के मुताबिक कोरोना के संक्रमण के लिए भी राहु के मिथुन राशि में गोचर को ही कारण माना जा रहा था। राहु को संक्रमण का कारक ग्रह माना जाता है और राहु के मजबूत होने और अच्छा प्रभाव देने वाले गुरु, शुक्र और बुध के कमजोर होने के कारण संक्रमण में फैलाव हुआ। माना जा रहा है कि अब राहु के राशि परिवर्तन के साथ ही कोरोना के संक्रमण पर लगाम लगेगी।


इसी तरह 23 सितंबर को केतु धनु से वृश्चिक राशि में गोचर करेगा। केतु की चाल का यह परिवर्तन भी केवल मीन व धनु के लिए ही शुभ माना जा रहा है, बाकी राशियो के लिए ठीक नही है। राहु और केतु का अगला राशि परिवर्तन 22 अप्रैल 2022 को होगा।


माह के अंत मे मकर राशि में वक्री चल रहे शनि 29 सितंबर से मार्गी स्थिति में आ जाएंगे। इसे भी शुभ माना जा रहा है।

Spread the love

11

इंदौर