शुक्रवार को सूर्यग्रहण, लेकिन भारत मे सूतक नही

वर्ष 2018 का दूसरा सूर्य ग्रहण 13 जुलाई शुक्रवार को लग रहा है। लेकिन चूंकि यह ग्रहण इंदौर, मप्र सहित भारत में कहीं नहीं दिखेगा इसलिए ग्रहण के नियम के अनुसार भारत में रहने वाले लोगों पर ग्रहण के सूतक का विचार नहीं होगा।

इसके चलतेभारत के लोगों को ग्रहण के दौरान किए जाने वाले नियमों के पालन की जरूरत नहीं। इसलिए अफवाहों और बेकार की बातों पर ध्यान ना दें।

अर्थात शुक्रवार को मंदिरों के पट सामान्य दिनों की तरह खुले रहेंगे, नियमित पूजा पाठ होगी। किसी तरह का सूतक नहीं रहेगा।

हां, वे भारतीय जो उन देशों में रहते हैं जहां ग्रहण दिखेगा, उन पर इस ग्रहण का प्रभाव होगा और उन्हें सूतक का भी ध्यान रखना चाहिए।

जिन क्षेत्रों में ग्रहण दिखेगा वहां केवल ग्रहण के सूतक का नियम पालन जरूरी माना गया है।

साल के इस दूसरे सूर्य ग्रहण के दौरान सूर्य मिथुन राशि में रहेंगे और चंद्रमा भी इनके साथ मौजूद रहेंगे।

इससे पहले फरवरी के महीने में सूर्य ग्रहण लगा था। यह खण्डग्रास सूर्यग्रहण आस्ट्रेलिया के सुदूर दक्षिणी भागों विक्टोरिया, तस्मानिया, प्रशांत एवं हिंद महासागर में देखा जा सकेगा।

ग्रहण का आरंभ 7 बजकर 18 मिनट पर होगा और मोक्षकाल 9 बजकर 43 मिनट होगा। ग्रहण कुल 2 घंटे 25 मिनट का होगा।

ग्रहण के समय से 12 घंटे पहले सूर्य ग्रहण का सूतक काल शुरू हो जाता है। चंद्रग्रहण का सूतक ग्रहण से 10 घंटे पहले आरंभ होता है।

इसी माह गुरु पूर्णिमा पर चन्द्र ग्रहण आ रहा है। यह भारत मे पूरी तरह दिखाई देगा।

Spread the love

31

इंदौर