दुर्घटना में घायल को 1.44 करोड़ क्षतिपूर्ति दें- कोर्ट

कार को डंफर ने मार दी थी टक्कर, इंजीनियर की मां की भी मृत्यु हो गई थी
इंदौर। एक सड़क दुर्घटना के कारण एक साफ्टवेयर डेवलपेंट इंजीनियर के शरीर में आई तकरीबन 70 प्रतिशत अयोग्यता के चलते कोर्ट ने क्षतिपूर्ति के रुप में एक करोड 44 लाख 42 हजार 681 रुपए ब्याज सहित अदा करने के आदेश न्यू इंडिया इंश्योरेंस कपंनी को दिए है।
सोलहवे सदस्य, मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण इंदौर के सदस्य एडीजे कृष्णमूर्ति मिश्रा ने दिए है। इसी दुर्घटना में साफ्टवेयर इंजीनियर की मां मनोरमा गोयल की मौत पर वारिसों को तीन लाख 60 हजार चार सौ रुपए क्षतिधन दिए जाने के आदेश दिए है।

इनकी ओर सेअधिवक्ता जीके नीमा, सौरभ नीमा द्वारा पैरवी की गई। मामला इस प्रकार है कि अवाया इंडिया प्रालि पुणे महाराष्ट्र में पदस्थ साफ्टवेयर डेवलपमेंट इंजीनियर 31 वर्षीय भास्कर अग्रवाल 24 सितम्बर 2009 को अपनी माता मनोरमा गोयल व पुत्र सुयांश के साथ कार नंबर एमएच04-बीक्यू 1423 से मुंबई से पूना जा रहे थे। इसी दौरान मुंबई-पुणे एक्सप्रेस हाईवे पर इस कार के चालक ने तेजी व लापरवाही से चलते हुए सड़क किनारे खड़े डम्फर नंबर एमएच14 बीजे 1255 में पीछे की तरफ कार को घुसेड़ दी। इससे कार में सवार भास्कर को सिर व अन्य हिस्सेे में गंभीर चोंट आई व मनोरमा की मौत हो गई।

सिर में गंभीर चोंट के कारण भास्कर को काग्रेटिव डिसबलिटी कारित हुई अर्थात वह लिखने पढऩे से लेकर सोचने समझने, बोलने, याद रखने, पहचानने तक में असर्मथ हो गया। शरीर में तकरीबन 70 प्रतिशत अयोग्यता के कारण काम करने में असमर्थ हो गया। दावा अधिकरण के समक्ष रखे गए तको्रँ से सहमत होकर अधिकरण ने क्षतिपूर्ति की उक्त राशि एक अक्टूबर 2010 से सात प्रतिशत ब्याज सहित आदेश जारी किए गए।

Spread the love

इंदौर