20 पंथी मन्दिर मामले में हाई कोर्ट का नोटिस

इंदौर। शांतिनाथ दिगम्बर जैन मंदिर मल्हारगंज का विवाद हाई कोर्ट पहुँचा है। जस्टिस रोहित आर्य की बेंच ने इसमे सुनवाई करते हुए कलेक्टर-तहसीलदार व श्री शांतिनाथ दिगम्बर जैन 20 पंथी मन्दिर को नोटिस जारी कर चार सप्ताह में जवाब मांगा है।

इसे लेकर दीपक कासलीवाल की ओर से दायर याचिका पर उक्त नोटिस जारी किए गए। 14 मई 2018 को तहसीलदार मल्हारगंज को यहा का रिसीवर नियुक्त किया गया था। Sdm ने आदेश दिया था कि रिसीवर यहां का हिसाब लेकर आये लेकिन ट्रस्ट द्वारा हिसाब नही दिया जा रहा था। इस पर यह याचिका लगाई गई। कासलीवाल के अनुसार याचिका में कहा गया है कि श्री दिगम्बर जैन बीसपंथ का गठन वर्ष 1987 में हुआ था। तब से लेकर अभी तक ट्रस्ट का ऑडिट नहीं कराया और न ही रिपोर्ट पंजीयक लोक न्यास के समक्ष दी जो कि धोखाधड़ी की श्रेणी में आता हैं।

मंदिर की दान पेटी कब और किसके सामने खोली गई और उसमें कितना रूपया आया,इसकी कोई जानकारी नहीं। ट्रस्ट में गठन के समय जितने सदस्य थे और बाद में समय- समय पर जो ट्रस्टी दिवंगत हुए या ट्रस्ट से बाहर हुए उनकी कोई जानकारी नहीं दी। समाज के विभिन्न लोगो के समय-समय पर आयोजन के नाम पर दान एकत्रित किया लेकिन रसीद ट्रस्ट की न देते हुए मंदिर समिति के नाम से दी गई । चातुर्मास, नवरात्रि के दान का हिसाब भी नही है।

Spread the love

इंदौर