स्पिनर्स का कहर, श्रीलंका ने द. अफ्रीका को हराया

कोलंबो। श्रीलंका ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दो टेस्ट की सीरीज 2-0 से जीत ली। कोलंबो में खेले जा रहे टेस्ट के चौथे दिन सोमवार को श्रीलंका ने द. अफ्रीका को 199 रन से हराया। श्रीलंका की ओर से सभी 20 विकेट स्पिनर्स ने लिए। टेस्ट क्रिकेट में ऐसा पहली बार है, जब किसी टीम ने सिर्फ स्पिनर्स के दम पर मैच जीता।

मैच में 6 खिलाड़ियों ने गेंदबाजी की, जिनमें केवल सुरंगा लकमल ही तेज गेंदबाज थे, बाकी सभी स्पिनर्स थे। पहली पारी में तो सिर्फ स्पिनर्स ने ही गेंदबाजी की थी। श्रीलंका के दिमुत करुणारत्ने को सीरीज और मैच का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुना गया। उन्होंने इस दूसरे टेस्ट की पहली पारी में 53 और दूसरी पारी में 85 रन बनाए।

श्रीलंका ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। उसने पहली पारी में 338 रन बनाए।
दक्षिण अफ्रीका की पहली पारी 124 रन पर सिमट गई। श्रीलंका की ओर से दिलरुवन परेरा, अकीला धनंजय और रंगना हेराथ ने क्रमशः 4, 5 और 1 विकेट लिए।

दक्षिण अफ्रीकी टीम फॉलोऑन नहीं बचा पाई थी, लेकिन श्रीलंका ने खुद बल्लेबाजी करने का फैसला किया। उसने 5 विकेट पर 275 रन बनाकर दूसरी पारी घोषित की। दक्षिण अफ्रीका को जीत के लिए 489 रन चाहिए थे, लेकिन दूसरी पारी में वह 290 रन ही बना सकी।

379 रन देकर लिए 20 विकेटः
मैच में श्रीलंका की ओर से हेराथ और धनंजय ने 7-7 और परेरा ने 6 विकेट लिए।

इनके अलावा दाएं हाथ के मध्यम गति के तेज गेंदबाज और कप्तान सुरंगा लकमल, स्पिनर्स धनंजय डिसिल्वा और दानुषका गुनातिलका ने भी गेंदबाजी की, लेकिन वे कोई विकेट हासिल नहीं कर सके।
खास यह है कि हेराथ और धनंजय ने 7-7 विकेट लेने के लिए बराबर रन भी खर्च किए। रंगना और धनंजय ने 130-130 रन दिए। परेरा ने 119 रन देकर 6 विकेट लिए।

हेराथ पारी में सबसे ज्यादा 5 विकेट लेने के मामले में
5वें नंबर परः
मैच में हेराथ ने 7 विकेट लिए। उन्होंने दूसरी पारी में 98 रन देकर 6 विकेट लिए। हेराथ ने पारी में 34वीं बार 5 या उससे ज्यादा विकेट लिए हैं।

इस मामले में उनके हमवतन मुथैया मुरलीधरन नंबर वन हैं। मुरलीधरन ने अपने कॅरियर के दौरान 67 बार 5 या उससे ज्यादा खिलाड़ियों को पवेलियन भेजा था।

दूसरे नंबर पर शेन वार्न ने ऐसा 37 बार किया। न्यूजीलैंड के रिचर्ड हेडली और भारत के अनिल कुंबले 36 और 35 बार ऐसा कर चुके हैं।

Spread the love

इंदौर