भारत-अमेरिका के विदेश और रक्षा मंत्रालयों के बीच स्थापित होगी हॉट लाइन

दिल्ली। भारत और अमेरिका ने विदेश और रक्षा मंत्रालयों के बीच हॉटलाइन स्थापित करने और दोनों देशों के बीच हुई ‘टू प्लस टू’ वार्ता में लिये गए फैसलों के क्रियान्वयन की निगरानी का निर्णय लिया है। नई दिल्ली में ‘टू प्लस टू’ वार्ता के बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने गुरुवार को इस आशय की घोषणा की।

वार्ता के दौरान स्वराज ने अपने अमेरिकी समकक्ष माइक पोम्पिओ के साथ और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने समकक्ष जेम्स मैटिस के साथ द्विपक्षीय वार्ता भी की।

देशो के मंत्री लगातार संपर्क में रहेंगे स्वराज ने कहा कि हमने गुरुवार को लिये गए फैसलों के क्रियान्वयन की करीब से समीक्षा करने का निर्णय लिया है।

विदेश और रक्षा मंत्रालयों के बीच हॉटलाइन स्थापित करने का फैसला लिया गया है, जिसके जरिए अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पिओ और मैं तथा निर्मला जी और अमेरिकी रक्षा मंत्री मैटिस लगातार संपर्क में रह सकेंगे।

आपको बता दें कि अमेरिकी विदेश मंत्री आर पोम्पियो और रक्षा मंत्री जेम्स मैट्टिस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भारत और अमेरिका के बीच हुई पहली टू प्लस टू वार्ता के बारे में जानकारी दी। उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की ओर से अभिवादन प्रेषित किया।

पीएम मोदी ने अमेरिका के मंत्रियों को बधाई
प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी संक्षिप्त बयान में कहा गया है, ‘प्रधानमंत्री ने राष्ट्रपति ट्रंप के साथ अपनी बातचीत का स्मरण करते हुए मंत्रियों से उनकी ओर से भी ट्रंप को शुभकामना प्रेषित करने का आग्रह किया।’ बयान के अनुसार दोनों अमेरिकी मंत्रियों ने इससे पहले हुई फलप्रद और उपयोगी टू प्लस टू वार्ता के बारे में जानकारी दी।

प्रधानमंत्री ने ट्र प्लस ट्र वार्ता करने के लिए दोनों अमेरिकी मंत्रियों तथा विदेश मंत्री सुषमा स्वराज एवं रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण को बधाई दी। इस दौरान स्वराज और सीतारमण भी मौजूद थीं ।

Spread the love

इंदौर