Jan 24 2019 /
11:48 AM

पाकिस्तान में भारतीय नागरिक सरबजीत सिंह की हत्या के दोनों आरोपी बरी

लाहौर। शनिवार को भारतीय नागरिक सरबजीत सिंह की हत्या के दो मुख्य संदिग्ध आरोपियों को पाकिस्तान की कोर्ट ने बरी कर दिया। इन दो आरोपियों को सबूत के अभाव में बरी कर दिया गया है।

लाहौर सत्र अदालत ने इस केस पर फैसला सुनाया जो कि 5 सालों से लंबित था। सरबजीत की लाहौर के कोट लखपत जेल में 2013 में हत्या कर दी गई थी।

लाहौर अतिरिक्त जिला और सत्र न्यायाधीश मोहम्मद मोइन खोखर ने गवाहों के पलट जाने के बाद आरोपियों- आमिर टाम्बा और मुदस्सर को बरी कर दिया।

कोर्ट में एक भी गवाह ने बयान नहीं दिया। साक्ष्य के अभाव में इन्हें बरी कर दिया। दोनों संदिग्ध विडियो लिंक के जरिए जेल से कोर्ट में पेश हुए।

सुरक्षा कारणों से उन्हें कोर्ट नहीं लागा गया था। आमिर और मुदस्सर अन्य मामले में फांसी की सजा सुनाए जाने पर जेल में बंद थे। दोनों पर आरोप है कि उन्होंने 2013 में जेल के भीतर सरबजीत पर हमला कर दिया था जिसमें उनकी मौत हो गई थी।

इससे पहले की सुनवाइयों में भी जज ने नाराजगी जताई थी क्योंकि अभियोजन पक्ष एक भी गवाह पेश नहीं कर पाए जो बयान दर्ज कराए।

हालांकि, पहले एक गवाह ने बताया था कि सरबजीत को सर्विस अस्पताल में गंभीर हालत में लाया गया था। कुछ गवाहों ने बताया था कि वे सरबजीत का बयान दर्ज करना चाहते थे लेकिन डॉक्टर ने उन्हें यह कह कर रोक दिया था कि सरबजीत की हालत बेहद गंभीर है। लेकिन बाद में गवाह अपने बयानों से पलट गए थे।

Spread the love

इंदौर